कुछ दोस्त ज़िंदगी में

July 3, 2017
229
Views

कुछ दोस्त ज़िंदगी में इस कदर शामिल हो जाते हैं,
अगर भूलना चाहो तो और याद आते हैं, बस जाते हैं वो दिल में इस कदर की,
आँखे बंद करो तो सामने नज़र आते हैं

एक सच्चा दोस्त कभी आपके रास्ते में नहीं आता,
जब तक कि आप गलत रास्ते पे ना जा रहे हो
फूलों की दोस्ती से काटों की दोस्ती बेहतर है,
जो हमें कठिन से कठिन रास्तों पर चलने के लिए प्रेरित करती है

ऐ खुदा अपनी अदालत में मेरी जमानत रखना,
मैं रहूं ना रहूं मेरे दोस्तों को सलामत रखना
दोस्ती खूबसूरत है तुम ना मानो ये हकीकत है,
दोस्ती इंसान की ज़रूरत है किसी दिन आओ
हमारी महफ़िल में, जान जाओगे ज़िंदगी कितनी खूबसूरत है

ऐ दोस्त मैं तुम्हे भूल जाऊं, ये तेरी भूल है,
तेरी क्या तारीफ करूँ, तू एक महकता हुआ फूल है

सोचा था ना करेंगे किसी से दोस्ती ना करेंगे किसी से वादा,
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा कि करना पड़ा दोस्ती का वादा
दोस्ती कभी ख़ास लोगों से नहीं होती,
जिनसे हो जाती है, वही लोग ज़िंदगी में ख़ास बन जाते हैं
कुछ खोये बिना हमने पाया है, कुछ मांगे बिना हमें मिला है,
नाज है हमें अपनी तकदीर पर, जिसने आप जैसे दोस्त से मिलाया है

किनारो पे सागर के ख़ज़ाने नहीं आते, जीवन में दोस्त पुराने नहीं आते,
जी लो इन पलों को हंस के जनाब, फिर लौट के दोस्ती के ज़माने नहीं आते

स्टाइल ऐसा करो की दुनिया देखती जाये,
और यारी ऐसी करो की दुनिया जलती रह जाए
हमारी और आपकी दोस्ती इतनी गहरी हो कि
नौकरी करो आप सैलरी हमारी हो
रिश्तों के नाम भी अजीब हैं,
वो सिर्फ दोस्त है पर दिल के बहुत करीब है
भरोसा जीता जाता है माँगा नहीं जाता,
दोस्ती वो दौलत है जिसे कमाया जाता है पाया नहीं जाता

तुम पत्थर भी मारोगे तो भर लेंगे झोली अपनी,
क्यूंकि हम दोस्तों के तोहफे ठुकराया नहीं करते
किसी बैंड से बाँध सकूँ,
इतना छोटा मेरे दोस्त का प्यार नहीं
रिश्ते निभाना हर किसी की बात नहीं,
अपना दिल भी दुखाना पड़ता है किसी और की ख़ुशी के लिए

कौन कहता है की यारी बर्बाद करती है,
अरे ओ यारो कोई निभाने वाला हो तो दुनिया याद करती है

अपनी दोस्ती का बस इतना सा असूल है,
जो तू कुबूल है तो तेरा सब कुछ कुबूल है

दुश्मन को जलाना और दोस्त के लिए,
जान की बाजी लगाना फितरत है हमारी

कल रात खुदा ने पूछा, तू इतना दोस्तों में क्यूँ खोया है,
तब अंदर से आवाज़ आयी, दोस्तों ने ही तो दी है खुशियां,
प्यार करके तो हमेशा ये दिल रोया है

न किसी से दुश्मनी है सबसे अपनी यारी,
तेरी सौतन तो पट गयी चल अब तेरी बारी

लकीरें तो हमारी भी बहुत ख़ास है,
तभी तो तुम जैसा दोस्त हमारे पास है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *