कब तक वो मेरा होने से

June 27, 2017
Shayari Love
241
Views

Roj Saahil Se Samandar Ka Najara Na Karo,
Apni Soorat Ko Shabo-Roz Nihara Na Karo,
Aao Dekho Meri Najron Mein Utar Kar Khud Ko,
Aayina Hoon Main Tera Mujhse Kinara Na Karo.
रोज साहिल से समंदर का नजारा न करो,
अपनी सूरत को शबो-रोज निहारा न करो,
आओ देखो मेरी नजरों में उतर कर खुद को,
आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा न करो।

Kab Tak Woh Mere Hone Se Inkaar Karega,
Khud Toot Kar Wo Ek Din MujhSe Pyaar Karega,
Pyar Ki Aag Mien Hum Usko itna Jala Denge.
Ke Ijhaar Woh Mujhse Sare-Baajar Karega.
कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,
प्यार की आग में उसको इतना जला देंगे,
कि इजहार वो मुझसे सरे-बाजार करेगा।

Yakeen Apni Chahat Ka Itna Toh Hai Mujhe,
Meri Aankhon Mein Dekhoge Aur Laut Aaoge,
Meri Yaadon Ke Samandar Mein Jo Doob Gaye Tum,
Kahin Jana Bhi Chahoge Toh Ja Nahi Paaoge.
यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे,
मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे,
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम,
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।

Yakeen Apni Chahat Ka Itna Toh Hai Mujhe,
Meri Aankhon Mein Dekhoge Aur Laut Aaoge,
Meri Yaadon Ke Samandar Mein Jo Doob Gaye Tum,
Kahin Jana Bhi Chahoge Toh Ja Nahi Paaoge.
यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे,
मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे,
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम,
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *