sad shayari, kabhi kabhi kisi ki yaad rulaa deti hei

sad shayari, kabhi kabhi kisi ki yaad rulaa deti hei
Bichhde huwe logo ki har baat rulaa deti he
hum ko to har jane wali shaam rula deti he
waise to hum dil ke bahut mazboot hein
Bus kabhi kabhi kisi ki yaad rulaa deti hei

बिछड़े हुवे लोगो की हर बात रुला देती हे
हम को तो हर जाने वाली शाम रुला देती हे
वेसे तो हम दिल के बहुत मजबूत हैं
बस कभी कभी किसी की याद रुला देती हे

Yaad shayari, Teri yaad Jab aati he

Teri yaad Jab aati he to use rokte nahi hum
Kiyu ke jo bager Datak ke aate hein apne hi hote hein…..

तेरी याद जब आती है तो उसे रोकते नही हैं हम
क्यों के जो बगेर दस्तक के आते हैं वो अपने ही होते हैं….

Yaad shayari, Teri yaad Jab aati he