Chahat Shayari, Tamanna karein log tujhe pane ki

Chahat Shayari, Tamanna karein log tujhe pane ki

Mat kar tamanna kisi ko pane ki,
Badi bedard nigahein hein zamaane ki,
Tu khud ko bana Qaabil is qadar,
Ke Tamanna karein log tujhe pane ki….

मत कर  तमन्ना किसी को पाने की,
बड़ी बेदर्द निगाहें हैं ज़माने की
तू खुद को बना क़ाबिल इस क़दर
के तमन्ना करें लोग तुझे पाने की…

Chahat Shayari, Apna samjha hum ne

Hazaron logon me ek tum hi ko apna samjha hum ne.
Warna na chahat ki kami thi aur na chahne walo ki

हज़ारों लोगों में एक तुम ही को अपना समझा हम ने।
वरना न चाहत की कमी थी और न चाहने वालो की

Chahat Shayari, Apna samjha hum ne