Love Shayari, Tum ne mohabbat, mohabbat se zyaada ki he

Tum ne mohabbat mohabbat se zyaada ki he

Tum ne mohabbat mohabbat se zyaada ki he,
Hum ne mohabbat tum se bhi zyaada ki hei
tum Kia kroge Mohabbat ki inteha
Hum ne inteha se to ibtida ki he…..

तुम ने मोहब्बत , मोहब्बत से ज्यादा की हे
हम ने मोहब्बत तुम से भी ज्यादा ही हे
तुम किया करोगे मोहब्बत की इन्तेहा
हम ने इन्तहा से इब्तेदा की हे…

wo silsile, wo shoq, woh qurbat nahi rahi
phir yun huwa ke dard me shiddat nahi rahi
apni zindagi me ho gaye wo masroof bahut
aur hum se baat karne ki fursat nehi rahi

वो सिलसिले, वह शोक, वह कुर्बत नही रही
फिर यूँ हुवा के दर्द में शिद्दत नही रही
अपने ज़िन्दगी में हो गये वह मसरूफ बहुत
और हम से बात करने की फुर्सत नही रही…..

Leave a Comment