Sad Shayari, Na khushi ki talash hei

Sad Shayari, Na khushi ki talash hei

Na khushi ki talash hei na Gam se najat ki Aarzoo
mein khud se bhi naraz hu tujh se kia gila karna….

न ख़ुशी की तलाश हे न गम से नजात की आरज़ू
में खुद से नाराज़ हूँ तुझ से किया गिला करना..

Baandh kar mere bazoo par tawiz nazar ka
khud mujh par wo nazar jamaye baithe hein
wo pila kar jaam labon se apni mohabbat ka
Ab kahte hein nashe ki Aadat achhi nahi hoti..

बांध कर मेरे बाजू पर तावीज़ नज़र का
खुद मुझ पर वो नज़रें जमाये बैठे हैं
वो पिला कर जाम लबों से अपनी मोहब्बत का
अब कहते हैं नशे की आदत अच्छी नहीं होती…

Leave a Comment