Chahat Shayari, Tamanna karein log tujhe pane ki

Chahat Shayari, Tamanna karein log tujhe pane ki

Mat kar tamanna kisi ko pane ki,
Badi bedard nigahein hein zamaane ki,
Tu khud ko bana Qaabil is qadar,
Ke Tamanna karein log tujhe pane ki….

मत कर  तमन्ना किसी को पाने की,
बड़ी बेदर्द निगाहें हैं ज़माने की
तू खुद को बना क़ाबिल इस क़दर
के तमन्ना करें लोग तुझे पाने की…

Leave a Comment