Dosti shayari, Koi dil se nahi milta

Koi rooh ka talabgar mile, to hum bhi karein Dosti
Warna dil to bahut milte hein, koi dil se nahi milta
💕

कोई रूह का तलबगार मिले, तो हम भी करें दोस्ती।
वरना दिल तो बहुत मिलते हैं, कोई दिल से नही मिलता💕

Dosti shayari, Koi dil se nahi milta

Ae dost hum tujh par naaz karte hein
har waqt milne ki faryaad karte hein
Hum nahi— par ghar wale bataate hein
k Hum aap se neend me bhi baat karte hein

ऐ दोस्त हम तुझ पर नाज़ करते हैं
हर वक़्त मिलने की फरयाद करते हैं
हम नही — पर घर वाले बताते हैं
के हम आप से नीन्द में बात करते हैं

Leave a Comment